ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
विद्यालय में ड्रॉप आउट को कम करने के लिये हिण्डालको महान महिला मण्डल ने जरुरतमन्द नौनिहालो को बाटें स्वेटर
January 7, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी

बरगवां,सिंगरौली। देश में औसतन सात सौ इक्क्यासी लोग ठण्ड के मौसम में शीत लहर की वजह से अपने प्राण गवा देते है लेकिन इस वर्ष यह आकड़ा हजार के पार पहुंच चुका है। वही ''हड्डी कपकपांने वाली ठण्ड से जहां पूरा भारत जाड़े की गिरफ्त में है एसे में जरुरत है ठण्ड से खुद को कैसे बचाया जाय साथ ही ऐसे लोगो के विषय मे भी सोचना चाहिये की जो संसाधनो की कमी के वजह से ठण्ड से लड़ने में असक्षम है'' शासन-प्रषासन ठण्ड के खिलाफ जमीनी स्तर पर अलाव की व्यवस्था कर कुछ हद तक सफल प्रयास किया जा रहा है वही हिण्डालको महान ठण्ड के मौसम में आम लोगो को राहत पहुचांने के लिये कम्बल वितरण कर रहा है वही महान महिला मण्डल ने गर्म कपडे न होने की वजह से विद्यालय छोड़ने को मजबूर बच्चो को स्वेटर वितरण करने का निर्णय लिया है जिसके अन्तर्गत ग्राम पंचायत बरगवां व ग्राम पंचायत जोबगढ़ के 400 बच्चो को स्वेटर वितरण करने हिण्डालको महान महिला मण्डल की अध्यक्षा जयश्री सोमानी, उपाध्यक्ष़्ाा सोमा मुखर्जी, स्थर बाग, उमा पटनायक, चैताली सरकार, बरगवां सरपंच लीलावती विद्यालय के प्राचार्य अमृतलाल प्रजापति व जोबगढ़ सरपंच जितेन्द्र द्विवेदी द्वारा जरुरतमंद नौनिहालो को अपने कर कमलो द्वारा स्वेटर वितरण किया। कार्यक्रम में अपना विचार रखते हुये महान महिला मण्डल की अध्यक्षा जयश्री सोमानी ने बच्चो को खुब पढ़े व खुब बढ़े कहते हुये उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। वही अध्यक्षा सोमा मुखर्जी ने ठण्ड की गम्भीरता को देखते हुये कहा की स्वेटर को पहनकर रोज विद्यालय आये ओर मन लगाकर पढ़े वही जोबगढ़ के सरपंच ने ठण्ड में बच्चो की फ्रिक्र करने के लिये हिण्डालको महान महिला मण्डल का आभार व्यक्त किया साथ ही कहा की हिण्डालको महान सचमूच महान है, साथ ही संवेदनषील कम्पनी है जो समय की जरुरत को समझते हुये कार्य करता है। वही कार्यक्रम में स्वेटर पाकर बच्चो के चेहरे में अलग ही खुषी नजर आ रही थी। वही कार्यक्रम को सफल बनाने में हिण्डालको सी0ए0आर0 विभाग से यसवंत कुमार, विजय वैष्य, धीरेन्द्र तिवारी, बीरेंन्द्र पाण्डेय, अरविन्द वैष्य, नरेन्द्र वैष्य, अखिलेष साहु, जियालाल, खलालु व दयानन्द का विषेष योगदान रहा।