ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
तेजस एक्सप्रेस हुई 85 मिनट लेट, यात्रियों को मिला 100 रुपये मुआवज़ा
January 23, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • देश विदेश


मुंबई । रेलवे की तेज गति वाली तेजस एक्सप्रेस के 85 मिनट लेट होने के चलते यात्रियों को मिला 100 रुपये रा मुआवज़ा मिला है। जामकारी के अनुसार पश्चिम रेलवे पर तकनीकी कारणों से बुधवार को दहिसर और भाईंदर के बीच ओवरहेड वायर में गड़बड़ी होने लगी। दोपहर 12:15 बजे के करीब हुई इस घटना के कारण अप फास्ट लाइन पर ट्रेनें बाधित हो गईं। इस गड़बड़ी के कारण 8 लोकल ट्रेनों की सर्विस रद्द करनी पड़ी, तो 4 लंबी दूरी की ट्रेनें भी लेट हो गईं। इनमें से एक हाल ही में तेजस एक्सप्रेस भी थी। अहमदाबाद से मुंबई की ओर आ रही तेजस एक्सप्रेस करीब 85 मिनट लेट हो गई थी।
19 जनवरी से अहमदाबाद से मुंबई के बीच तेजस एक्सप्रेस देश की दूसरी प्राइवेट ट्रेन के तौर पर आधिकारिक रूप से चलाई गई। आमतौर पर सामान्य ट्रेनों से ज्यादा किराया होने और प्राइवेट ट्रेन होने के कारण इसे अन्य ट्रेनों के मुकाबले प्राथमिकता दी जा रही है। इसके बदले ट्रेन में विश्वस्तरीय सुविधाएं मिलती हैं और ट्रेन लेट होने पर मुआवजा भी मिलता है। इस ट्रेन में एक घंटे से कुछ ज्यादा लेट होने पर 100 रुपये और दो घंटे से ज्यादा लेट होने पर 250 रुपये का मुआवजा दिया जाता है। बुधवार को यह ट्रेन 85 मिनट लेट थी। इसमें अहमदाबाद से मुंबई के बीच कुल 879 यात्री सवार हुए थे। प्रभावित यात्रियों की संख्या 630 थी, जिन्हें 100 रुपये प्रति यात्री के हिसाब से मुआवजा दिया गया।
ट्रेन लेट होने से प्रभावित यात्रियों को आईआरसीटीसी द्वारा मोबाइल पर लिंक भेजा जाता है। लिंक पर क्लिक करने के बाद यात्री क्लेम कर सकते हैं। दावा मिलने पर इंश्योरेंस कंपनी द्वारा क्लेम का भुगतान किया जाता है। ओवरहेड वायर की परेशानी के कारण दहिसर और मीरा रोड के बीच 12:15 से 12:30 तक परेशानी हुई। मीरा रोड से भाईंदर के बीच लोकल ट्रेनों की सेवाएं 13:35 बजे बहाल हुईं। इस दौरान दहिसर से मीरा रोड स्टेशन तक सभी स्टेशनों पर यात्रियों की भीड़ बढ़ने लगी। हालांकि, पीक आवर्स खत्म हो जाने के कारण ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा। पश्चिम रेलवे के अनुसार इस दौरान अन्य तीनों लाइन पर ट्रेनें चल रही थीं।