ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
तरुण गोगोई ने पीएम मोदी को हिंदू जिन्ना करार दिया 
January 7, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY


गुवाहाटी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और असम के पूर्व सीएम तरुण गोगोई ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने पीएम मोदी को हिंदू जिन्ना करार दिया है। गोगोई ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी भी भारत का धर्म के आधार पर विभाजन करने वाले मोहम्मद अली जिन्ना की 'टू नेशन थिअरी' को फॉलो कर रहे हैं। गोगोई ने नई दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हुई हिंसा की निंदा की। उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री आरोप लगाते हैं कि हम (कांग्रेस) पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं, मगर उन्होंने खुद को ही पड़ोसी देश के स्तर तक गिरा लिया है। वह जिन्ना के दो राष्ट्र सिद्धांत की तरफ बढ़ रहे हैं और भारत के हिंदू जिन्ना के रूप में उभरे हैं।'
उन्होंने कहा कि जिस तरह नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हुए हैं, वह दिखाता है कि लोगों ने भाजपा और उसके सहयोगी संगठनों के 'हिंदुत्व' के विचार को खारिज किया है। गोगोई ने कहा, 'हम हिंदू हैं, मगर अपने देश को हिंदू राष्ट्र बनते नहीं देखना चाहते हैं। विरोध करने वाले लोगों में ज्यादातर हिंदू हैं, जो भाजपा और आरएसएस के हिंदुत्व को ठुकरा चुके हैं।' ज्ञात हो कि तरुण गोगोई तीन बार असम के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। गोगोई देशभर में प्रस्तावित एनआरसी और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर केंद्र पर लगातार निशाना साध रहे हैं। इससे पहले उन्होंने देश में एक भी डिटेंशन कैंप न होने का दावा करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। गोगोई ने पीएम मोदी को झूठा बताते हुए दावा किया कि केंद्र की भाजपा सरकार ने असम के ग्‍वालपाड़ा में डिटेंशन कैंप स्‍थापित करने के लिए वर्ष 2018 में 46 करोड़ रुपये की धनराशि जारी की थी।