ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
शिक्षक शालाओं में समय पर उपस्थित हों एवं छात्रों की उपस्थिति संख्या बढ़ायें: कलेक्टर
December 5, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


निर्धारित समय सीमा में पाठ्यक्रम पूरा करें, अन्यथा होगी कठोर कार्यवाही
वैढ़न,सिंगरौली। जिले में शिक्षा की उच्चतम गुणवत्ता को लाने हेतु एवं आगामी बोर्ड की परीक्षाओं में कक्षा 10 वीं एवं 12 वीं का परीक्षा परिणाम बेहतरीन हो इसके लिए कलेक्टर श्री केवीएस चौधरी के द्वारा शिक्षा सत्र से ही शिक्षा विभाग की समय-समय पर बैठक आयोजित कर दिशा-निर्देश जारी किये जा रहे हैं। इसी तारतम्य में आज जिला पंचायत के सभागार में कलेक्टर श्री केवीएस चौधरी के अध्यक्षता में एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतुराज के उपस्थिति में शिक्षा विभाग की बैठक आयोजित हुई। कलेक्टर श्री चौधरी ने कक्षा 10 वीं, 12 वीं बोर्ड परीक्षा तथा कक्षा 5 वीं, 8 वीं की परीक्षा की तैयारियों की समीक्षा की गयी तथा निर्देश दिये गये कि शिक्षक शाला में समय पर उपस्थित हों एवं छात्रों की उपस्थिति बढ़ायें। निर्धारित समय सीमा में पाठ्यक्रम पूरा किया जाय। आगे उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि रेमेडियल माड्यूल पाठ्यक्रम के तहत निर्धारित पाठ्यक्रमों को शिड्यूल के अनुसार पूर्ण करेंगे तथा कक्षा 5 वीं, 8 वीं का पाठ्यक्रम पूर्ण कर राज्य शिक्षा केन्द्र से जारी प्रश्र बैंक को प्रत्येक प्राथमिक एवं मीडिल शालाओं को न्यूनतम चार-चार सेट में उपलब्ध करायें। आगे उन्होंने कहा कि बोर्ड की परीक्षाओं हेतु तीन माह शेष हैं। घोषित अवकाश के दिनों में भी कक्षाओं का संचालन कर परीक्षा की तैयारी कराना है तथा बच्चों के पास विषयवार चार नई कापियॉ प्रदान किये गये हैं। माड्यूल में प्रति दिवस हेतु निर्धारित पाठ्यक्रमों का अभ्यास करायें। पहले शिक्षक बोर्ड पर लिखें फिर बच्चों को कापियों में लिखायें। उन्हें पूरी तरह से अभ्यस्थ करायें तथा दूसरे दिवस 10 मिनट का टेस्ट भी लेवें। कलेक्टर ने सभी संकुल प्रभारियों, एपीसी सहित ब्लाक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिये कि शिक्षा के गुणवत्ता लाने में सभी को निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्य करना है। किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें। वहीं संकुल प्रभारियों को यह भी निर्देश दिये कि कक्षा 10 वीं, 12 वीं की उपस्थिति 90 से 95 प्रतिशत होनी चाहिए। हम सबको मिलकर ऐसा प्रयास करना है कि प्रदेश में परीक्षा परिणाम में जिले की एक नई पहचान तथा छात्र-छात्राएं टापटेन में आयें। वहीं सभी शालाओं के शिक्षकों का वेतन सार्थक ऐप पर उपस्थिति के अनुसार ही किया जाये। ऐप में उपस्थिति जितना दिवस हो उतना ही भुगतान करें। शेष दिवसों का वेतन काटा जावे। इसी क्रम में विकासखण्डवार पिछले माहों में किये गये भुगतान की जानकारी ली गयी। बैढन बीईओ के द्वारा बिना सार्थक ऐप का परीक्षण किये ही भुगतान किये जाने के फलस्वरूप कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्देश दिये। वहीं विद्यालयों के अतिरिक्त कक्ष किचन शेड एवं डीएमएफ से स्वीकृति, अपूर्ण कार्यों को आगामी तीन माह के अंदर पूर्ण करने का निर्देश दिये। बैठक के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी बृजेश मिश्रा, डीपीसी आर.के. दुबे, एडीपीसी डॉ.पी.एन.सिंह, जिला प्रोग्रामर विवेक मिश्रा, सहायक यंत्री विनोद शाह, एपीसी अजय मिश्रा, महेन्द्र मौर्या, उपयंत्री रवि प्रकाश सिंह, अम्बिका प्रसाद मिश्रा सहित समस्त संकुल प्राचार्य आदि उपस्थित रहे।