ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
सेना ने 10 पाक सैनिक मार गिराए
December 28, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY


दो चौकियां तबाह, लगातार गोलीबारी से बढ़ा तनाव
पुंछ।  पाकिस्तान की ओर से नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर लगातार हो रहे संघर्ष विराम उल्लंघन का भारतीय सेना ने करारा जवाब दिया है। पुंछ के कृष्णा घाटी और मनकोट में गोलाबारी के खिलाफ जवाबी कार्रवाई में भारतीय सेना ने 10 पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। इस हमले में पाकिस्तान के कब्जे कश्मीर (पीओके) के बट्टल में दो चौकियां तबाह हो गईं, जबकि कई अन्य को भारी नुकसान पहुंचा है। बृहस्पतिवार को भी सेना ने उड़ी सेक्टर में पाकिस्तान के दो सैनिकों को मार गिराया था। बीते दो दिन में पाकिस्तान के 12 सैनिक मारे गए हैं। सूत्रों के अनुसार सीमा पार मरने वाले सैनिकों की संख्या ज्यादा भी हो सकती है। बृहस्पतिवार रात कार्रवाई के बाद शुक्रवार सुबह पाकिस्तानी सेना की दर्जनों एंबुलेंस को बट्टल में सैनिकों के शव ले जाते देखा गया। 
लोगों को घरों में रहने का निर्देश 
पाकिस्तानी सेना ने बट्टल क्षेत्र में आम लोगों को घरों में रहने का निर्देश दिया है, ताकि भारतीय सेना की कार्रवाई में हुए नुकसान की खबर बाहर न निकल सके। जवानों की मौत से बौखलाए पाकिस्तान ने दोपहर बाद राजौरी के नौशेरा सेक्टर में गोलाबारी की। अग्रिम चौकियों के साथ रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया। कलाल व डींग में भी गोलाबारी की। गोलाबारी से डींग में ग्रेफ विभाग की बैरक और मशीन क्षतिग्रस्त हो गईं। वहां ड्यूटी पर तैनात चौकीदार व अन्य ने पास बने बंकर में छिपकर जान बचाई। धमाके नौशहरा कस्बे तक सुने गए। दोपहर एक बजे शुरू हुई गोलाबारी 2:30 बजे तक जारी रही। राजौरी के सुंदरबनी में पाकिस्तान ने मोर्टार दागे। वहीं, सिलिकूट, हथलंगा, मोथल, सोवरा, बालकोट, चुरंडा और आस-पास इलाकों को निशाना बनाने से ग्रामीणों में दहशत है। शुक्रवार को भी लोग घरों से निकलने में डरते रहे।
आईबी पर रातभर गोलाबारी, ड्रोन से निगरानी
भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) पर भी संघर्ष विराम का उल्लंघन जारी है। रात साढ़े नौ बजे से हीरानगर सेक्टर की चांदवां पोस्ट पर जारी गोलाबारी अलसुबह साढ़े पांच बजे तक जारी रही। इस दौरान रिहायशी इलाकों को भी निशाना बनाया गया। इसमें दो टीन शेड और पानी टंकी को नुकसान पहुंचा। सेना ने इलाके में ड्रोन से निगरानी की। 
एसएस/ईएमएस/28दिसंबर2019