ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
सीएए पर भ्रम का कुहासा जल्द छंटेगा, सामने आएगी सच्चाईः शिवराज सिंह
December 27, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश


भोपाल ।  भोपाल। तिरुपति में लोग जिस तरह से नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में आगे आए हैं और रैली में जो जनसैलाब उमड़ा है, उसे देखकर मुझे यह विश्वास हो गया है कि सीएए पर जो भ्रम फैलाया गया है, वह जल्द ही छंट जाएगा और इसकी सच्चाई देश के हर व्यक्ति के सामने आ जाएगी। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को तिरुपति में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में आयोजित रैली के दौरान कही।
मोदी जी ने कानून बनाकर बापू का सपना साकार किया
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि देश के विभाजन के बाद सितम्बर, 1947 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कहा था कि पाकिस्तान में रहने वाले हिंदू, सिक्ख और अन्य अल्पसंख्यक अगर वहां ना रहना चाहें, तो भारत आ सकते हैं। भारत सरकार का यह कर्त्तव्य है कि वह उनकी मदद करे। प्रधानमंत्री श्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह नागरिकता संशोधन कानून बनाकर बापू के इस सपने को साकार किया है। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक दल अपने निजी स्वार्थों के लिए देश को आग में झोंकने का काम कर रहे हैं।
हमारे प्रताड़ित भाई-बहनों को नागरिकता मिले, इसमें गलत क्या है?
श्री चौहान ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून किसी के खिलाफ नहीं है। जो भी इसका विरोध कर रहे हैं, वे झूठ बोल रहे हैं और भ्रम फैला रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं सोनिया जी से पूछना चाहता हूं कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक आधार पर प्रताड़ित होने वाले हमारे भाई-बहनों को भारत की नागरिकता क्यों नहीं मिलनी चाहिए ? और अगर उन्हें नागरिकता मिल रही है, तो इसमें गलत क्या है? पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में अगर इन भाई-बहनों पर अत्याचार किए जाएंगे, तो ये कहां जाएंगे ? उन्हें भारत के अलावा किस देश में शरण मिलेगी?
विरोधी नहीं चाहते कि शरणार्थी भाईयों के जीवन में सुधार आए
 श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी व गृह मंत्री अमित शाह बधाई के पात्र हैं जिन्होंने शरणार्थियों के दर्द को समझा व उन्हें नागरिकता देने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून किसी की नागरिकता छीनने के लिये नहीं, बल्कि नागरिकता देने के लिए बनाया गया है। उन्होंने कहा कि कुछ मुट्ठीभर लोग जो नहीं चाहते कि हमारे शरणार्थी भाई-बंधुओं की तकलीफें कम हों, उनके जीवन में सुधार आये, वे ही इसका विरोध कर रहे हैं। श्री चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी देश को इस कानून की सच्चाई बताने के लिए जन जागरण कार्यक्रम चला रही है।
धर्मेन्द्र 27 दिसम्बर 2019