ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
सीएए के विरोध में सड़कों पर आने वाले लोग विशेष तरह की वेशभूषा में थे, कांग्रेसी इन्हें उकसा रहे हैं: नड्‌डा
December 22, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश

इंदौर. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा सीएए के विरोध में सड़कों पर आने वाले लोग एक विशेष तरह की वेशभूषा में आए। इन सबका कांग्रेस ने भरपूर समर्थन दिया। कांग्रेस ने वोट बैंक की राजनीति की, इसलिए आज भी वह देश से ज्यादा वोट बैंक के लिए विशेष समाज के लोगों को उकसाकर बवाल कराया। भाजपा ने तय किया कि आप गुमराह करेंगे तो हम दूध का दूध, पानी का पानी कर घर-घर जाकर सच्चाई सामने लाएंगे।

उन्होंने कहा पं. जवाहर लाल नेहरू ने कहा था पाकिस्तान में जिन अल्पसंख्यकों के साथ अन्याय हुआ है, उन्हें भारत में नागरिकता मिलेगी। इसे मनमोहन सिंह ने दोहराया था। 1947 में दुनिया का सबसे बड़ा पलायन हुआ था। उससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ और उसके बाद कभी नहीं है। हमने भारत में अल्पसंख्यकों की रक्षा की। हमने भारत को धर्मनिरपेक्ष देश बनाया। पाकिस्तान और बांग्लादेश को इस्लामिक देश बनाया। भारत में मुस्लिम 11 प्रतिशत से बढ़कर 14 प्रतिशत हुए। पाकिस्तान में 28 प्रतिशत से घटकर हिंदू 3 प्रतिशत बचे। बांग्लादेश में 22 प्रतिशत से घटकर 7 प्रतिशत बची। इसीलिए भारत ने हिंदू, सिख,  जैन, ईसाई, बौद्ध को नागरिकता देना जरूरी समझा।

नड्‌डा बोले- आपने बटन दबाकर शंकर लालवानी को सांसद बनाया। शंकर लालवानी ने संसद में बटन दबाकर 370 खत्म कराया। यहां बैठे लोगों के बाल सफेद हो गए हैं, वह नारा लगाते थे। एक देश में दो विधान, दो प्रधान नहीं चलेगा। धारा 370 खत्म होने के बाद कश्मीर में भारत के सभी कानून लागू होंगे। इससे वहां का विकास होगा। अब कश्मीर में भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी। कश्मीर के भ्रष्टाचारी अब जेल में होंगे। पाकिस्तान, बंगलादेश, अफगानिस्तान में ट्रिपल तलाक बंद है। लेकिन, भारत में यह काम मोदी ने किया। 

राहुल गांधी से पूछे तीन प्रश्न
नड्‌डा ने कहा कि मैं कांग्रेस के नेता राहुल गांधी से तीन प्रश्न पूछना चाहता हूं। पहला क्या उन्होंने भारत के विभाजन का इतिहास पढ़ा है। मैं यह इसलिए पूछ रहा हूं क्योंकि उनके बयानों से यह लगता नहीं है कि उनके दिल मेें भारत के विभाजन का कोई दर्द है। दूसरा प्रश्न यह कि क्या वे अपने राजनीतिक जीवन में कभी ऐसे कैंप में गए हैं जहां पाकिस्तान, बांग्लादेश से आए शरणार्थी रह रहे हैं। और तीसरा प्रश्न यह कि पिछले एक सप्ताह से देश में हिंसक आंदोलन हो रहा है, सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा रहा है, इसे रोकने के लिए आपने एक भी बयान क्यों नहीं दिया। मैं राहुल गांधी से यह कहना चाहता हूं कि वे सीएए की 10 लाइन बता दें और दो लाइन यह बता दें कि इससे क्या नुकसान है।

सभा से पहले रविवार को इंदौर पहुंचे। मप्र भाजपा के अध्यक्ष राकेश सिंह सहित अन्य नेताओं ने उनका स्वागत किया। 11.30 बजे नड्डा की रैली बड़ा गणपति चौराहा से प्रारंभ हुई जो राजीव गांधी प्रतिमा चौराहे पर समाप्त हुई। रैली में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, सांसद शंकर लालवानी, विधायक और कई नेता शामिल रहे।

भाजपाइयों ने नहीं मानी सीएम कमलनाथ की अपील
मप्र के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश को होर्डिंग मुक्त बनाने की पहल की थी। सीएम ने किसी भी कार्यक्रम में नेताओं के होर्डिंग-पोस्टर नहीं लगाने की अपील नेताओं व कार्यकर्ताओं से की थी। कांग्रेस के नेता-मंत्री ने तो मुख्यमंत्री की बात को मान लिया लेकिन भाजपा ने इस अपील को खारिज कर दिया। रविवार को इंदौर में जेपी नड्‌डा की स्वागत रैली के मार्ग पर बड़ी संख्या में होर्डिंग-पोस्टर लगे दिखाई दे रहे है।