ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
प्रदूषण को रोकने के साथ ही दुर्घटनाओ में लगाम लगाने हेतु कलेक्टर ने ट्रन्सपोर्टरो की ली बैठक
December 19, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


बैढ़न शहर से छंत्तीसगड़ कोल परिवहन करने वालो वाहनो को कलेक्टर ने किया प्रतिबंधित
वैढ़न,सिंगरौली। कलेक्टर श्री केवीएस चौधरी के द्वारा कोल परिवहन से हो रहे प्रदूषण के साथ दुर्घटनाओ में लगाम लागने हेतु विगत दिवस एनसीएल जयंत के महाप्रबंधक कर्यालय स्थित सभागार में एनसीएल प्रबंधन सहित विभिन्न औद्योगिक कंम्पनियो, ट्रन्सपोर्टरो की बैठक आयोजित कर आवश्यक निर्देश दिये गये।
  कलेक्टर श्री चौधरी के द्वारा सर्व प्रथम कोयलार्ड वाहनो के रूट चार्ट के साथ साथ कोल साईडिंग की विस्तृत जानकारी लेने के पश्चात चार विंदुओ पर चर्चा की गई। जिसमें कहा गया कि  कोई सभी  कोल परिवहन करने वाले वाहन अच्छे तिरपाल से कोयले को ढंक कर ही चलेगे। कलेक्टर ने निर्देष दिया कि निर्धारित पार्किग प्वाईटो पर ही वाहनो को खड़ा किया जाये। कलेक्टर के द्वारा कोल साईडिंग की अनुमति एवं कोल वाहक वाहनो का निर्धारित रूट इंन्ही चार विदुओ पर विस्तृत चर्चा करते हुये सार्थक पहल करने हेतु अधिकारियो को जिम्मेदारी सौपी गई। बैठक के दौरान कलेक्टर ने कहा कि प्रायं कोल परिवहन करने वाले वाहन प्रापर कवर से ढके हुये नही होते है जिससे कोयल सड़क के चारो ओर फैला रहता है। उन्होने ने कहा कि अब सभी कोल परिवहन करने वाले वाहन अच्छी क्वाल्टी के तिरपाल से ढके होने चाहिये अन्याथ जॉच के दौरान खुले में कोल परिहन करने वाले वाहनो के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेगी।
   कलेक्टर ने कहा कि तय किये गये स्थानो मे कोल परिवहन करने वाहनो को खड़ा करने हेतु पर्किग बनाई जाये। सभी वाहन उसी स्थान पर खड़े हो। अगर सड़क पर वाहन खड़े मिले तो उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने का निर्देश दिया गया। कलेक्टर ने निर्देश दिया कि कोल परिवहन करने वाले वाहन चिन्हित किये गये रूट में ही चले। तथा अमलोरी प्रोजेक्ट से लोड होने वाले वाहन जिन्हे परमीशन दिया गया है माजन मोड़ से बधौरा के लिए जायेगे। वाहनो को रात 12 बजे से सुबह 5 बजे तक की ही अनुमति दी जायेगी। वही बैठक के दौरान यह भी तथ्य सामने आया कि कुछ कोल परिवहन कर रहे वाहन बैढ़न शहर से प्रवेश कर छत्तीसगढ़ के लिए जाते है जिसे कलेक्टर के द्वारा गंभीरता पूर्वक लेते हुये तत्काल बैठक में ही जिला के वरिष्ठ अधिकारियो को निर्देश दिया कि किसी भी सूरत में शहर भीतर से कोल परिवहन करने वाले वाहन ना गुजरे।
      वही साईडिंग नम्बर 3 से लोडिंग कौन कर रहा है तथा रेलवे से कौन अधिकारी आये है एवं कोल साईडिंग के लिए पर्यावरणीय स्वीकृत ली गई है या नही उक्त साईडिंग के संबंध में कोई भी जानकारी किसी ने उपलंब्ध कराई जिसके फल स्वरूप कलेक्टर ने साईडिंग नम्बर तीन को तत्काल बंद करने का निर्देश दिया गया। साथ ही वाहनो की संख्या को कम करने के उद्देश्य से कलेक्टर ने कहा कि यूपी से निकलने वाला कोयला एमपी मे नही आयेगा। जिससे कोयला परिवहन करने वाले वाहनो की संख्या कम होगी इससे दुर्घटनाओ में भी रोक लागई जा सकेगी।  बैठक के दौरान कोल परिवहन करने वाले ट्रन्सपोर्टरो के भी सुझाव लिए गये। बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक अभिजीत रंजन, वन मण्डल अधिकारी विजय सिंह, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप सिंडें, एसडीएम ऋषि पवार, एनसीएल के निर्देशक तकनिकी गुणाधर पाण्डेंय, जिला परिवहन अधिकारी एसपी दुबे, सीएसपी अनिल सोनकर, यातायात प्रभारी अजय प्रताप सिह सहित विभिन्न औद्योगिक कंम्पनियो के पदाधिकारी, ट्रन्सपोर्टर उपस्थित रहे।