ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
ऑनलाईन सिस्टम धान खरीदी में बाधक 
December 25, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश


- एसडीएम के निरीक्षण में खुली व्यवस्था की पोल
शहडोल। खून-पसीना बहाकर उपजाई गई धान को बेचने में भी किसानों को पसीना आ रहा है। धान खरीदी केन्द्रों में व्याप्त अव्यवस्था के कारण किसान कई दिनों तक खरीदी केन्द्र का चक्कर काट रहे हैं। जैतपुर एसडीएम द्वारा धान खरीदी केन्द्र रसमोहनी का निरीक्षण किये जाने पर इसकी पोल खुली जिसके बाद उन्होंने जिम्मेदार कर्मचारियों को व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिये हैं। 
प्राप्त जानकारी के मुताबिक जैतपुर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व धर्मेन्द्र मिश्रा ने मंगलवार को बुढार विकासखंड अंतर्गत धान खरीदी केन्द्र रसमोहनी का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने धान खरीदी केन्द्र में उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लेते हुये वहां पर धान बेचने पहुंचे किसानों से भी चर्चा की। चर्चा के दौरान किसान शत्रुदमन सिंह ने बताया कि वह तीन दिन से धान लेकर आया है लेकिन अभी तक उसे रसीद नहीं दी गई है जिसे कारण वह परेशान हो रहा है।
किसान की परेशानी को गंभीरता से लेते हुये एसडीएम ने तत्काल लैम्पस प्रबंधक से रसीद न देने का कारण पूछा जिस पर लैम्पस प्रबंधक मुनीलाल साहू द्वारा बताया गया कि सर्वर ठप रहने की समस्या के कारण किसानों को रसीद देने में परेशानी हो रही है। लैम्पस प्रबंधक का कहना था कि एक-दो दिन में सब ठीक हो जाएगा। इस पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व धर्मेन्द्र मिश्रा ने लैम्पस प्रबंधक को निर्देशित किया कि खरीदी केंद्र में किसानों को कोई परेशानी ना हो, यह सुनिश्चित किया जाय। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि खरीदी केंद्र में किसानों को पानी और चाय की व्यवस्था भी कराई जाए जिससे किसानों को परेशानी ना हो। इस अवसर पर एसडीएम द्वारा धान खरीदी की स्थिति की जानकारी भी ली गई।  लैम्पस प्रबंधक ने बताया कि धान खरीदी केन्द्र रसमोहनी में 40 हजार क्विंटल धान की खरीदी होनी है और अभी तक 3135 क्विंटल धान खरीदी जा चुकी है। एसडीएम के निरीक्षण के दौरान धान खरीदी प्रभारी शफीक खान सहित क्षेत्र के अनेक किसान मौजूद रहे।