ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
नेत्रहीनों को रोशनी प्रदान करना अपने-आप में पुनीत कार्य है - आयंगर
November 30, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


रिहंद परियोजना के धनवंतरी चिकित्सालय में नि:शुल्क मेगा आई कैंप में ऑपरेशन करवाए हुए 254 नेत्र रोगियों को कंबल प्रदान कर एवं उचित परामर्श देकर किया गया शिविर का समापन

बीजपुर (30 नवंबर) । एनटीपीसी के रिहंद परियोजना के धनवंतरी चिकित्सालय, सीएसआर विभाग एवं वर्तिका महिला मंडल के संयुक्त तत्वावधान में धनवंतरी चिकित्सालय में आयोजित तीन दिवसीय नि:शुल्क मेगा आई कैंप का समापन समारोह शनिवार को संपन्न किया गया । समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रिहंद परियोजना के मुख्य महाप्रबंधक बालाजी आयंगर ने अपने सम्बोधन में इस आयोजन हेतु धनवंतरी चिकित्सालय के चिकित्सकों की टीम को विशेष धन्यवाद का पात्र बताते हुए आयोजन को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करने वाले जिला चिकित्सालय सोनभद्र, सीएसआर विभाग, वर्तिका महिला मंडल, विभिन्न यूनियन व एसोसिएशन एवं सामाजिक संस्थाओं की प्रशंसा भी की । उन्होने कहा कि नेत्रहीनों को रोशनी प्रदान करना अपने-आप में एक पुनीत कार्य होता है । उन्होने चिकित्सालय की मुख्य चिकित्साधिकारी से अंगदान करने हेतु भी योजना बनाने को कहा ताकि इस योजना को कार्य रूप में परिणित करके धनवंतरी चिकित्सालय एक महत्वपूर्ण कार्य का सम्पादन कर सके । शिविर के समापन अवसर पर मुख्य अतिथि एवं सहअतिथियों ने मेगा कैंप के दौरान लेंस प्रत्यारोपण विधि से ऑपरेशन करवाए हुए 254 ग्रामीणों को कंबल प्रदान किया । इसके पूर्व चिकित्सकों ने उन्हें उचित परामर्श भी दिया । इस कैंप का आयोजन जिला चिकित्सालय सोनभद्र के सहयोग से किया गया था जिसमें सीतापुर से संबद्ध महाबीर नेत्र चिकित्सालय मिर्जापुर से पधारे हुए डॉ0 आर सी दुआ एवं डॉ0 नितिन दुआ व उनकी टीम तथा धनवंतरी चिकित्सालय के वरिष्ठ नेत्र रो विशेषज्ञ डॉ0 तन्मय मिश्रा एवं उनकी टीम द्वारा नेत्र रोगियों का सफल ऑपरेशन किया गया था । 

इसके  पूर्व कार्यक्रम के शुरुआती दौर में चिकित्सालय के चिकित्सकों द्वारा मुख्य अतिथि एवं सहअतिथियों को गुलदस्ता प्रदान कर उनका स्वागत किया गया । अगली कड़ी में चिकित्सालय की मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 रेनू सक्सेना ने उपस्थित लोगों के समक्ष मेगा आई कैंप 2019 की रिपोर्ट के साथ-साथ चिकित्सालय द्वारा जनहित में किए जा रहे कार्यों की रूप-रेखा भी प्रस्तुत की । पुन: चिकित्सालय के वरिष्ठ नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ0 तन्मय मिश्रा ने अपने संबोधन के जरिए बताया कि इस वर्ष के आई कैंप में 526 नेत्र रोगियों ने ऑपरेशन के लिए अपना नाम पंजीकरण करवाया था, जिसमें 254 नेत्र रोगियों का लेंस प्रत्यारोपण विधि से सफल ऑपरेशन किया गया । ऑपरेशन के लिए चयनित कुछ नेत्र रोगियों का ऑपरेशन शुगर व ब्लड प्रेशर के कारण कैंप के दौरान नहीं किया जा सका है । उनका शुगर व ब्लड प्रेशर नियंत्रण की दशा में हो जाने पर बाद में ऑपरेशन किया जाएगा । अन्य वक्ताओं में महाप्रबंधक (ओ एंड एम) ए सी साहू ने इस कार्य हेतु चिकित्सालय की टीम को सराहते हुए कहा कि इस कैंप के दौरान मुझे हर्ष की अनुभूति हो रही है । वक्ता जे पी पाण्डेय, वी एस उपाध्याय, आर बी सिंह, रामजी द्विवेदी तथा चपकी से पधारे हुए प्रदीप कुमार तिवारी ने अपने-अपने वक्तव्य के जरिए मेगा आई कैंप की व्यवस्था को सराहा । समापन अवसर पर कैंप के दौरान नेत्र का ऑपरेशन करवाए हुए नेत्र रोगियों ने भी अपने-अपने सुखद अनुभव को लोगों के समक्ष रखा । 

कार्यक्रम का संचालन डॉ0 मनीषा कुलश्रेष्ठ तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ0 मुकुल सक्सेना ने किया । कार्यक्रम में मुख्य रूप से महाप्रबंधक (अनुरक्षण) जी सी चौकसे, महाप्रबंधक (एफ़ एम) एम रमेश, वर्तिका महिला मण्डल की अध्यक्षा पद्मा आयंगर व अन्य पदाधिकारी महिलाएं, सीआईएसएफ़ के सहायक समादेष्टा द्वय सुशील कुमार व देवचंद, विभिन्न यूनियन एवं एसोसिएशन के प्रतिनिधिगण तथा नेत्रों ऑपरेशन करवाए हुए ग्रामीणों के साथ-साथ उनके सहयोगी परिजन उपस्थित थे ।