ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
नगर निगम की कारवाही से व्यापारियों में आक्रोश,मार्ग अवरुद्ध कर की नारेबाजी
January 9, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


काल चिंतन संवाददाता,
वैढ़न,सिंगरौली। स्वच्छ एवं अतिक्रमण मुक्त सिंगरौली के नाम पर नगर निगम अधिकारियों द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए की जा रही बेजा कार्रवाई को लेकर गुरुवार को मोरवा के व्यापारी भड़क उठे। सैकड़ों की तादात में व्यापारी एवं जनप्रतिनिधियों ने मोरवा बाजार के मुख्य मार्ग को जाम कर घंटों निगम के विरुद्ध नारेबाजी की। वही निगम अधिकारी के विरुद्ध आपराधिक मामला दर्ज करने को लेकर अड़े रहे। घंटों चले इस प्रदर्शन में मोरवा निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह ने पहुंचकर व्यापारियों के आक्रोश को शांत कराया, जिसके बाद कहीं जाकर मार्ग खुल सका। इस घटना के बाद पीड़ित दुकानदारों ने मोरवा निरीक्षक को लिखित तहरीर दी है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि राजस्व उपनिरीक्षक रण बहादुर सिंह द्वारा उनके दुकान में बिना नोटिस दिए तोड़फोड़ कराई गई है, जिसे लेकर उचित कार्रवाई की जाए।
बताया जाता है कि मोरवा बाजार से अतिक्रमण हटाने को लेकर गुरुवार अलसुबह करीब 5 बजे नगर निगम राजस्व उपनिरीक्षक रण बहादुर सिंह द्वारा जेसीबी की मदद से मुख्य बाजार स्थित हनुमान मंदिर के पास शिव प्रसाद गुप्ता एवं अनिल गुप्ता की तीन दुकानों का अतिक्रमण तोड़ने के चक्कर में उनके शटर तक उखाड़ डाले। निगम की इस कार्रवाई के बाद मामला बिगड़ता देख निगम अधिकारी कर्मियों साथ वहां से नौ दो ग्यारह हो गए। सुबह घटना की जानकारी मिलते ही पूर्व मंडल अध्यक्ष प्रवीण तिवारी, पार्षद विमल गुप्ता, भाजपा मंडल अध्यक्ष भूपेंद्र गर्ग, कांग्रेस जिला महासचिव शेखर सिंह, कांग्रेस नेता नरेंद्र चंद सिंह, राजेश सिंह समेत सैकड़ों व्यापारियों ने घटनास्थल पहुंचकर मुख्य मार्ग जाम कर दिया एवं नगर निगम के विरुद्ध नारेबाजी करने लगे। उनका आरोप था कि बिना किसी पूर्व सूचना एवं नोटिस के यह कार्रवाई की गई है। वहीं राजस्व उपनिरीक्षक रण बहादुर सिंह द्वारा व्यक्तिगत तौर पर आपसी रंजिश निकालने के लिए दिन की बजाय अलसुबह सुबह बिना बताए कार्यवाही को किया गया है।
नगर निगम उप कार्यालय मोरवा में पदस्थ सहायक उपनिरीक्षक रण बहादुर सिंह अपने कारनामों से आए दिन सुर्खियों में रहते हैं। इससे पूर्व भी सब्जी मंडी में पन्नी हटाने को लेकर उनका खासा विरोध हुआ था जिसके बाद नगर निगम द्वारा व्यापारियों को पन्नी खरीदकर देनी पड़ी थी। इस कार्यवाही के बाद पूर्व मंडल अध्यक्ष प्रवीण तिवारी एवं पार्षद विमल गुप्ता ने आरोप लगाते हुए बताया कि रण बहादुर सिंह यूं तो राजस्व उप निरीक्षक के पद पर तैनात हैं परंतु वह स्वयं को आयुक्त से कम नहीं समझते हैं उन्हें निगम के दूसरे आयुक्त के तौर पर भी देखा जाता है। नेताओं की शह पर ही वह अभी तक मोरवा नगर निगम में अंगद की तरह पैर जमाए बैठे हैं और आए दिन बेजा कार्रवाई कर स्थानीय लोगों को परेशान करते रहते हैं। अत: उन पर कार्रवाई सुनिश्चित की जानी चाहिए।