ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
नागरिकता ऐक्ट पर देशभर में बवाल, जल रहा यूपी, बिहार बंद 
December 21, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • देश विदेश


हिंसक प्रदर्शन में 13 की मौत
भोपाल में स्थिति सामान्य, जबलपुर में कफ्र्यू जारी
नई दिल्ली । नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में प्रदर्शन अभी जारी हैं। उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। इन प्रदर्शनों में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है और कई लोग बुरी तरह घायल हैं। उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली, मध्य प्रदेश और गुजरात समेत अन्य राज्यों में भी प्रदर्शन जारी हैं। इसी के मद्देनजर आज उत्तर प्रदेश में सभी स्कूलों-कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है। भोपाल में शुक्रवार के प्रदर्शन के बाद हालात नियंत्रण में हैं और जनजीवन सामान्य है। वहीं जबलपुर के 4 थाना क्षेत्रों में कफ्र्यू जारी है। पूरे शहर में तनाव की स्थिति है और भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। एहतियात के तौर पर आज शहर के सभी स्कूल बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। नागरिकता कानून को लेकर प्रदर्शन जारी है। आज राष्ट्रीय जनता दल की तरफ से बुलाए गए बिहार बंद के दौरान कई जगहों पर चक्का जाम किया गया है। जबकि, कुछ जगहों पर ट्रेन रोकने की भी खबर आ रही है। ऐसी रिपोर्ट्स है कि कुछ लोगों की तरफ से जबरन वहां पर दुकानें बंद कराई जा रही है।

कानपुर में पुलिस चौकी फूंकने की कोशिश
कानपुर के बाबूपुरवा के बगाही और मछरिया क्षेत्र से भी प्रदर्शन और आगजनी की खबरें सामने आईं। यहां प्रदर्शन के दौरान 13 लोग घायल हुए, जिनमें से 9 लोगों को गोली लगी है। घायलों को इलाज के लिए अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। फिरोजाबाद में भी पथराव और आगजनी की घटनाएं सामने आई हैं। यहां उपद्रवियों ने पुलिस चौकी फूंकने की कोशिश की। इसके अलावा अयोध्या, बहराइच, सीतापुर, शामली, अलीगढ़, बुलंदशहर, वाराणसी, भदोही और गोरखपुर में भी हिंसक प्रदर्शन की खबरें सामने आईं।

 
हिरासत में चंद्रशेखर आजाद
भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इससे पहले चंद्रशेखर ने खुद ही ट्वीट करके कहा कि दिल्ली गेट से गिरफ्तार किए गए सभी लोगों को रिहा कर दिया जाए तो वह अपनी गिरफ्तारी देने के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शुक्रवार को दिल्ली में हुए प्रदर्शन में चंद्रशेखर भी शामिल थे। 

10 दिन बाद असम में इंटरनेट सेवाएं बहाल 
असम में मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई हैं। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन के मद्देनजर 10 दिन पहले यहां इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई थी। गुवाहाटी हाई कोर्ट ने गुरुवार शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवा बहाल करने का आदेश दिया था लेकिन राज्य सरकार ने मोबाइल इंटरनेट प्रदाताओं को अदालत का आदेश लागू करने का कोई निर्देश जारी नहीं किया था। हिंसक घटनाओं को देखते हुए 11 दिसंबर की शाम से मोबाइल और ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवा रद्द कर दी गई थी। 

देर रात छोड़े गए हिरासत में लिए गए 40 प्रदर्शनकारी
दिल्ली गेट से हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारियों को कोर्ट के आदेश के बाद छोड़ दिया गया है। चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट के आदेश के बाद 40 प्रदर्शनकारियों को दरियागंज पुलिस स्टेशन से रिहा कर दिया गया है। कोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वह हिरासत में लिए गए प्रदर्शनकारियों का इलाज कराए और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है हिरासत में लिए गए नाबालिग प्रदर्शनकारियों का मामला जुवेनाइल जस्टिस लॉ के तहत निपटाया जाए। इसी के साथ दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर लोगों ने अपना धरना भी खत्म कर दिया है। प्रदर्शनकारी दिल्ली गेट में हुए प्रदर्शन के दौरान हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करने की मांग कर रहे थे। 

पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी समेत 151 गिरफ्तार
नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में हुई हिंसा, हिंसा भड़काने, शांतिभंग करने और अन्य आरोपों में पुलिस ने पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी समेत करीब 151 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने सीतापुर रोड स्थित एक कॉलेज के एक शिक्षक को भी हिरासत में लिया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में 6 पश्चिम बंगाल के असलम, शाह आलम, सागर अली, संजू अली, खेरुल और सलेदुल भी हैं। एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तारियों और हिरासत में लिए जाने का सिलसिला जारी है।