ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
कुछ लोगों को हिंदू शब्द से ही ऐलर्जी : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू 
January 13, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY


चेन्नई । देश के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजंस (एनआरसी) पर सियासी बहस के बीच उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि भारत में कुछ लोगों को हिंदू शब्द से ही ऐलर्जी है। नायडू ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता का मतलब किसी एक खास धर्म का अपमान या तुष्टीकरण करना नहीं है। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक रूप से प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने के लिए है।
चेन्नई में श्री रामकृष्ण मठ द्वारा प्रकाशित तमिल मासिक श्री रामकृष्ण विजयम के शताब्दी समारोह और स्वामी विवेकानंद जयंती के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में वेंकैया ने कहा कि भारत में कुछ लोगों को हिंदू शब्द से ऐलर्जी है। हालांकि यह ठीक नहीं है, फिर भी उन्हें इस तरह का दृष्टिकोण रखने का अधिकार है। नायडू ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता का मतलब दूसरे धर्मों का अपमान नहीं है, जबकि धर्मनिरपेक्ष संस्कृति भारतीय लोकाचार का एक हिस्सा है। नायडू ने कहा कि देश ने हमेशा पीड़ित लोगों को शरण प्रदान किया है। स्वामी विवेकानंद एक सामाजिक सुधारक थे और उन्होंने पश्चिम में हिंदुत्व से परिचय कराया। स्वामी विवेकानंद ने कहा था कि वह ऐसे देश से हैं, जिसने विभिन्न देशों में प्रताड़ित लोगों और शरणार्थियों को शरण दी है। नायडू ने सीएए का जिक्र करते हुए कहा कि भारत अब प्रताड़ित लोगों को स्वीकार करने के लिए तैयार है, जबकि कुछ तत्व इसके बारे में विवाद पैदा कर रहे हैं।