ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
कमलनाथ ने CAA-NRC पर भाजपा को घेरा, PM मोदी से पूछा ये सवाल
January 9, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश

भोपाल. कांग्रेस के सेवादल शिवर में मध्‍य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा कि ये भाजपा वाले सेवादल को क्या राष्ट्रवाद का पाठ पढ़ाएंगे. पीएम एक नाम तो बताइए अपनी पार्टी का, जो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हो. अगर पार्टी का ना सही कम से कम अपने परिवार के ही एक सदस्य का नाम बता दीजिए, जिसने आजादी की लड़ाई में हिस्सा लिया हो. हैरानी की बात ये है कि भाजपा वाले सिर्फ कलाकारी का ही काम करते हैं. सीएम कमनलाथ ने सीएए-एनआरसी को लेकर कहा कि कौन सी बड़ी आवश्यकता थी इसे लाने की और कौन सा आसमान गिर रहा था.
रोजगार को लेकर कही ये बात
रोजगार देने पर सीएम कमलनाथ ने कहा कि अब तो बता दो आप कितने युवाओं को रोजगार देंगे. साथ ही सीएम ने सेवादल के शिविर में कार्यकर्ताओं के सामने कहा कि जब हमारी सरकार आई थी, तब भाजपा ने हमें खाली तिजोरी दी थी. अगर खाली तिजोरी है तो कुछ नहीं कर पाएंगे. सीएम ने कहा कि मैं नहीं कहता था बल्कि भाजपा वाले खुद कहते थे कि खाली तिजौरी है कैसे सरकार चलाएंगे. इस वक्‍त हमारे लिए मध्य प्रदेश का माहौल बदलना चुनौती है. उन्‍होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश के दो करोड़ लोगों को रोजगार देने की बात कही थी. सिर्फ ये बता दीजिए अब आने वाले साल में कितने करोड़ युवाओं को आपकी सरकार रोजगार देगी.

CAA-NRC पर उठाए सवाल
सीएम कमनलाथ ने सीएएन-एनआरसी को लेकर फिर खुलकर कहा कि इस कानून का कितना प्रभाव पड़ेगा ये तो बाद में पता चलेगा. किस तरह के बीज आज बोए जा रहे हैं देश में. राजनीतिक लोगों को लगता है ये समय निकला जाएगा. ये एनआरसी (NRC) की बात करते हैं. एनआरसी और सीएए में क्या नहीं लिखा है, उसकी ज्यादा चिंता है. कौन सी बड़ी आवश्यकता थी. कौन सा आसमान गिर रहा था और कौन सी आफत आई जा रही थी. क्यों देश की नींव हिलाने की जरूरत है इनको. देश के भाईचारे को प्रभावित करने की कौन सी आवश्यकता है. ये सिर्फ गुमराह करने की राजनीति करते हैं. यकीन ना हो तो भाजपा की पिछले 6 सालों का काम को देख लीजिए. ये ध्यान मोड़ने की राजनीति करते हैं. इसीलिए एनआरसी और सीएए की बात कर रहे हैं. पीएम किसानों, युवाओं और महिलाओं की बात क्यों नहीं करते हैं.