ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सिंगरौली द्वारा बाल किशोर न्यायालय परिसर में विधिक जागरूकता कार्यशाला सम्पन्न
January 18, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


काल चिंतन संवाददाता,
वैढ़न,सिंगरौली।  विगत दिवस दिनांक 16/01/2020 को शाम को जिले के बाल किशोर न्यायालय परिसर बैढन में सबके लिये हो न्याय  दिलाने हेतु अग्रसर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सिंगरौली द्वारा विधिक जागरूकता कार्यशाला आयोजित कार्यशाला के मुख्य अतिथि जिला न्यायाधीश- विनोद कुमार द्विवेदी द्वारा माँ सरस्वती की तस्वीर पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यशाला प्रारम्भ किया गया।
जिसमें मुख्य रूप से जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अध्यक्ष व जिला एवं सत्र जिला न्यायाधीश मुख्य अतिथि- विनोद कुमार द्विवेदी, अपर जिला न्यायाधीश एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण- उपेन्द्र प्रताप सिंह, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट- तेजप्रताप सिंह, प्रधान मजिस्ट्रेट किशोर न्याय बोर्ड श्रीमती बबीता होरा, जिला विधिक सहायता अधिकारी दिग्विजय सिंह कार्यक्रम में मास्टर ट्रेनर के रूप में अपर जिला न्यायाधीश- जितेंद्र कुमार पराशर, अपर जिला न्यायाधीश- अनुज कुमार, बाल कल्याण  समिति अध्यक्ष- सुरेशमणि तिवारी सभी के द्वारा किशोरों के संबंध में कानूनी प्रावधान व किशोरों के सर्वांगीण विकास और उनके विधिक अधिकारों का सर्वोत्तम संरक्षण करने और बाल मित्रवत व्यवस्थाओं के संबंध में किशोर न्याय बोर्ड में पैरवी करने वाले पैनल अधीवक्ताओं, अर्ध विधिक स्वयंसेवी, विशेष किशोर पुलिस इकाई, महिला एवं बाल विकास, बाल कल्याण समिति, रेडक्रास, वन स्टॉप सेन्टर के पदाधिकारियों हेतु संवेदीकरण कार्यशाला का आयोजन जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के द्वारा किया गया ।उक्त विधिक जागरूकता कार्यशाला में उपस्थित अधिवक्ता पैनल - अवनीश दुबे, सतेंद्र शाह, (एडवोकेट), बाल कल्याण समिति सदस्य- आशा गुप्ता, रेडक्रास सचिव- डॉ. डी.के. मिश्रा, अधिवक्ता- संतोष कुमार दुबे, रणजीत सिंह, श्रीमती रेनू पुरी, रामकरण वर्मा, वंदना सिंह, नसीमुद्दीन अंसारी, अर्ध विधिक स्वयं सेवी - शैलेन्द्र कुमार शाह, बृजेश कुमार जायसवाल, अनुव्रत तिवारी, अधिवक्ता - रवींद्र प्रसाद पाण्डेय, रामजी जायसवाल बालिका आश्रय, चाइल्ड लाइन पुलिस विभाग महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी सहित अन्य समाजसेवी संगठनों के सदस्य भारी संख्या में शामिल रहे ।