ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
हैदराबाद पुलिस की तरह यू.पी. व दिल्ली पुलिस भी करे कार्रवाई-मायावती
December 6, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश


लखनऊ । यू.पी., दिल्ली, तेलंगाना व देश के अन्य राज्यों में भी घटित महिला उत्पीड़न, बलात्कार व जिन्दा जलाकर मारने आदि की जघन्य घटनायों का दुःखद बताते हुये बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने कहा कि पुलिस ऐसे आपराधिक तत्वों को सरकारी मेहमान बनाकर इनका आवभगत करने के बजाए हैदराबाद पुलिस की तरह सख्त कानूनी कार्रवाई करती है तो इन अपराधों पर काफी कुछ अंकुश लगाया जा सकता है।
शुक्रवार को बसपा नेत्री मायावती ने कहा कि प्रदेश में मेरी हुकूमत में कानून द्वारा कानून का राज कायम था तथा सरकार का इकबाल बुलन्द रहता था क्योंकि अपराधियों के खिलाफ दलगत राजनीति से ऊपर उठकर मैं और मेरी सरकार काफी सख्त कानूनी कार्रवाई किया करती थी। लेकिन वर्तमान में यू.पी. में कानून का नहीं बल्कि अपराधिक तत्वों का ही जंगलराज चल रहा है। उन्होंने कहा कि आपराधिक तत्वों को सरकारी संरक्षण प्राप्त है तथा उन्हें सरकारी मेहमान बनाकर उनकी हर स्तर पर आवभगत की जाती है और इसलिए यहाँ आपराधिक तत्वों के हौंसले काफी बुलन्द हैं तथा हर प्रकार के जघन्य अपराध चरम पर हैं। अभी हाल ही में उन्नाव में एक महिला को जिन्दा व दिन दहाड़े जलाकर मारने का प्रयास आदि ऐसी अनेकों घटनायें हैं जिनसे मानवता शर्मसार हो रही है और अगर हैदराबाद पुलिस की तरह यू.पी. व दिल्ली की पुलिस भी सख्त कार्रवाई करने लगे तो संभव है कि महिलाओं के प्रति जघन्य अपराध थम जाए।
पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि यू.पी. में हर जगह घटित हो रहे विभिन्न अपराधों के साथ-साथ खासकर महिला उत्पीड़न व बलात्कार आदि की घटनायें अति-चिन्ताजनक स्तर पर काफी बढ़ गई हैं और इसीलिए प्रदेश सरकार व यहाँ की पुलिस को अपना रवैया बदलने की सख्त जरूरत है। अपराधियों के दिल-दिमाग से कानून का खौफ लगभग समाप्त हो जाने सम्बंधी एक अन्य सवाल के जवाब में बसपा सुप्रीमो ने कहा कि यह बहुत ही खतरनाक प्रवृत्ति प्रकृति है जिससे जनहित व देशहित सीधे तौर पर प्रभावित होता है और स्थिति में सुधार लाने के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों को दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ ही काम करना होगा वरना अपराधियों का बोलबाला लगातार बना रहेगा व गरीब आमजनता, मेहनतकश लोग व खासकर महिलायें इसका बुरी तरह से शिकार होती रहेंगी और देश त्रस्त बना रहेगा।