ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
एनसीएल के कोयला उत्पादन में 7प्रतिशत एवं डिस्पैच (प्रेषण) में 5प्रतिशत की बढ़ोतरी
January 1, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी

काल चिंतन संवाददाता
मोरवा,सिंगरौली। नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) ने चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (यानी अप्रैल से दिसंबर) तक 79.57 मिलियन टन मिलियन टन कोयले का उत्पादन एवं 79.90 मिलियन टन कोयले का प्रेषण (डिस्पैच) किया है। कंपनी का कोयला उत्पादन एवं प्रेषण दोनों ही लक्ष्य से अधिक हैं। 
तीसरी तिमाही तक कंपनी द्वारा कियागया 79.57 मिलियन टन कोयला उत्पादन पिछले वित्त वर्ष की सामान अवधि के मुकाबले 6.59 प्रतिशत अधिक है। पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही तक कंपनी ने 74.65 मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया था। 
इसी तरह, तीसरी तिमाही तक कंपनी द्वारा किया गया 79.90 मिलियन टन कोयला प्रेषण भी पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 5.33 प्रतिशत अधिक है, जो अब तक के निर्धारित लक्ष्य का 103.82त्न है। पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही तक कंपनी ने 75.86 मिलियन टन कोयले का प्रेषण किया था। 
बिजली घरों को भी एनसीएल ने पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के मुकाबले 4.26त्न अधिक कोयला दिया है। चालू वित्त वर्ष के दिसंबर माह तक कंपनी ने बिजली घरों को 65.55 मिलियन टन कोयला दिया, जबकि पिछले वर्ष समान अवधि में 62.87 मिलियन टन कोयला दिया गया था। 
सिर्फ दिसंबर महीने की बात करें तो इस वर्ष दिसंबर महीने में कंपनी का कोयला उत्पादन एवं प्रेषण पिछले साल दिसंबर महीने में किए गए उत्पादन एवं प्रेषण से अधिक है। एनसीएल ने दिसंबर 2019 में 9.64 मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया हैजबकि दिसंबर 2019 में कंपनी ने 9.72 मिलियन टन कोयले का प्रेषण किया है।
गौरतलब है कि चालू वित्त वर्ष में एनसीएल को 106.50 मिलियन टन कोयला उत्पादन एवं प्रेषण करना है। अब तक के नतीजों को देखते हुए उम्मीद है कि कंपनी लक्ष्य से अधिक कोयला उत्पादन एवं प्रेषण करेगी।वित्तीय वर्ष 2018-19 में भी कंपनी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 101.50मिलियन टन कोयला का उत्पादन व 101.59 मिलियन टन कोयलाका प्रेषण किया था। दिन और रात लगातार काम करते हुए कंपनी देश की ऊर्जा सुरक्षा अहम भूमिका अदा कर रही हैं।