ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
बजट को लेकर पीएम की बैठक में नहीं थीं निर्मला सीतारमण, कांग्रेस का तंज- अगली बैठक में वित्त मंत्री को भी बुला लें
January 9, 2020 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY

नई दिल्ली
कांग्रेस ने गुरुवार को बजट को लेकर नीति आयोग की विशेषज्ञों और अर्थशास्त्रियों के साथ बैठक से वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की नामौजूदगी को लेकर तंज कसा। गुरुवार को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में नीति आयोग की प्री-बजट मीटिंग हुई। इसमें सीतारमण के अनुपस्थित रहने पर कांग्रेस ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर तंज कसा, 'एक सुझाव है, अगली बजट बैठक में वित्त मंत्री को न्योता देने पर विचार कीजिए।' अपने ऑफिशल ट्विटर हैंडल से किए गए इस ट्वीट में कांग्रेस ने 'फाइंडिंग निर्मला' हैशटैग का इस्तेमाल किया।

बजट को लेकर बैठक में वित्त मंत्री के ही नहीं रहने पर कांग्रेस का तंज
एक अन्य ट्वीट में मुख्य विपक्षी दल ने इसी हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए लिखा, 'एक महिला के काम को करने के लिए कितने पुरुषों की जरूरत पड़ती है।' संयोग से प्रधानमंत्री की प्री-बजट मीटिंग में निर्मला सीतारमण तो नहीं थीं लेकिन वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल, ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर मौजूद थे।
बीजेपी के सुझाव मांगने वाले ट्वीट पर कांग्रेस ने दिया 'सुझाव'
बजट को लेकर बैठक में वित्त मंत्री के ही नदारद रहने पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर तंज कसने के लिए बीजेपी के ट्वीट को रीट्वीट किया। बीजेपी का ट्वीट इस बारे में था कि वित्त मंत्रालय ने बजट को लेकर लोगों से सुझाव मांगे हैं और कोई भी 20 जनवरी तक अपना सुझाव भेज सकता है। बीजेपी की इसी ट्वीट को रीट्वीट करते हुए कांग्रेस ने अगली बार वित्त मंत्री को भी न्योता देने पर विचार करने का 'सुझाव' दिया।


उस वक्त बीजेपी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं से चर्चा कर रही थीं निर्मला
बजट को लेकर प्रधानमंत्री की बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के नहीं दिखने पर बीजेपी सूत्रों ने बताया कि वह उसी वक्त बीजेपी मुख्यालय में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ प्री-बजट मीटिंग कर रही थीं।

पीएम मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग में हुई उच्चस्तरीय बैठक
बता दें कि प्रधानमंत्री ने नीति आयोग में अर्थशास्त्रियों, निजी इक्विटी और वेंचर कैपिटलिस्ट, कारोबारियों और कृषि क्षेत्र के विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श किया और भारत को 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में सभी को मिलकर प्रयास करने को कहा। इस उच्चस्तरीय बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।