ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
बारह राशियों को वार्षिक राशिफल सन् 2020 का
December 30, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY


मेष राशि- चू, चे, चो, ला, ली, लू, ल, लो, अ
आपकी राशि का स्वामी मंगल है। आर्थिक एवं व्यावसायिक दृष्टि से यह वर्ष सामान्य फल देगा। परिश्रम की अधिकता के साथ-साथ आर्थिक कार्यों में रुकावट आयेगी जिसके कारण अस्थिरता और मानसिक तनाव बनेगा, किन्तु आकस्मिक धन प्राप्त के योग भी बनेंगे। मध्यम धन लाभ के साथ खर्च की अधिकता बनी रहेगी। कोई पुराना रुका हुआ कार्य पूर्ण होगा। धन हानि होगी पदोन्नति के योग बनेंगे, मन चाहा तबादला मिलेगा। अनेक बार उच्चाधिकारियों से तनाव की स्थिति बनेगी संपत्ति में हानि होगी। विवाद खड़े होंगे। खरीदी सम्पत्ति आगे चलकर लाभ देगी। कर्ज से मुक्ति मिलेगी। स्वास्थ्य प्राय नरम रहेगा। प्रेम प्रसंग में तनाव होगा। अशुभ समाचार से दु:ख होगा। अदालती मामलों में अनेक उलझनों के बाद अंतत आपकी जीत होगी, किन्तु दाम्पत्य जीवन तनाव पूर्ण रहेगा। संतान की चिन्ता रहेगी। कुटुम्बी जनों से कभी सुख तो कभी दु:ख मिलेगा। शिक्षा के क्षेत्र में मिला-जुला फल मिलेगा। अपने शत्रुओं से आप विशेष सावधान रहें, किसी दुर्घटना के शिकार हो सकते है। चोरी आदि की संभावना है। धैर्य से काम लें, विवाद से बचें तथा किसी धोखे का शिकार हो सकते है। चेरी आदि की संभावना शुभ फल प्राप्त हेतु मूंगा धारण करें। मंगलवार का क्रत रखे तथा हनुमानजी की आराधना को वंदन आदि से चोला चढ़ाये, जाप पाठ आदि करें, तथा सुन्दरकांड आदि का पाठ जाप अवश्य करे या कराये।

वृष राशि- ई, ओ, ए, वा, वी, वू, वे, वो
आप की राशि का स्वामी शुक्र है। आर्थिक और व्यापारिक दृष्टि से यह फल आपको मध्यम फल कारक है। धन लाभ के साथ खर्च की अधिकता रहेगी। आर्थिक चिन्ता व व्यापार की बाधा मन को अशांत रखेगी। नौकरी में किसी जांच का सामना करना पड़ेगा। विपरीत तबादलों के साथ पदोन्नति मिल सकती है। किसी पुरानी उलझी समस्या का निदान होगा। सम्पत्ति विवाद से हानि होगी। सुख सुविधा के साधन एवं वाहन खरीदी में खर्च होगा। किसी अभिन्न मित्र से धोखे की संभावना है। स्वास्थ्य नरम-गरम रहेगा। कोई पुराना रोग उभर सकता है। किसी मित्र के सहयोग से पुराने कर्जे से मुक्ति मिलेगी। अचानक धन प्राप्त के योग बनेंगे। विवादों से हानि होगी। किसी धोखे का शिकार हो सकते है। उधार दिया उधार कर्ज डूब सकता है। इस वर्ष मुकदमें में विजय मिलेगी। चोट-चपेट दुर्घटना की संभावना है। घर में शुभ मांगलिक कार्य होंगे। शिक्षा के क्षेत्र में छात्रों को सफलता मिलेगी। अपने शत्रुओं पर विशेष निगाह रखें। क्रोध त्यागे अन्यथा उच्च रक्त चाप होगा। ब्लड प्रेशर बढ़ेगा। रिश्तेदारों के आगमन से मन प्रसन्न होगा। प्रेम प्रसंगों में अपमान सहना होगा। दाप्मत्य जीवन में कभी दु:ख सहना होगा। कुटुम्बियों के विरोध का सामना करना होगा। नये संपर्क बाद में लाभ देवेंगे। किसी शासकीय नोटिस से चिन्ता बढ़ेगी। शुभ फल प्राप्त हेतु हीरा धारण करें, शुक्रवार को शिवजी का क्रत धारण करें।

मिथुन राशि- का, की, कू, घ, ड., छ, के, को, ह
आपकी राशि का स्वामी बुध है। आर्थिक एवं व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष परिश्रम से फल देगा। व्यापार विचार के साथ नवीन कार्य तथा योजनाओं में सफलता मिलेगी। छुटपुट बाधायें आयेगी। धन की आवक-जावक बराबर होने से धन के बचत भाव कम दिखाई देवेंगे। पारिवारिक सम्पत्तियों पर विवाद बनें रहेंगे। खरीदी वस्तुओं पर आगे चलकर लाभ होगा। कोई पुराना रुका पैसा फंसेगा। सेल टैक्स, इनकम टैक्स की जांच का सामना करना पड़ेगा। मित्रों से लाभ कम तनाव तथा धोखा ज्यादा होगा। नौकरी के क्षेत्र में उच्चाधिकारियों से विवाद बढ़ सकता है। विपरीत तबादले के साथ यात्राओं के योग बनेंगे। कुटुम्बियों से दु:ख तथा सुख की कम आशा होगी। स्वास्थय प्राय नरम रहेगा। आपरेशन की संभावना बन सकती है। आपके मान-सम्मान पर आघात आ सकता है। अपनी वाणी पर संयम रखे। क्रोध त्यागे वरना रक्त चाप के शिकार हो सकते है। किसी पुराने कर्ज से मुक्ति मिलेगी संतान की चिन्ता बनेगी। किसी दुर्घटना का शिकार हो सकते है। अदालती कार्यों में जीत हासिल होगी। वैवाहिक प्रयासों में सफलता मिलेगी। विष्णु जी का पूजन करें। सोमवार या बुधवार का क्रत रखे तथा हनुमानजी के सुन्दरकांड का पाठ करें या करायें।

कर्क राशि- ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो
आपकी राशि का स्वामी चंद्रमा है। आर्थिक एवं व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष सामान्य फलदायक है। खर्च की अधिकता के कारण धन का संचय कम होगा। व्यापार में मेल-मिलाप से अच्छे व्यापारियों से मेल होगा। पुराने रुके कार्यों में अभीष्ट कार्य की प्राप्ति होगी। धन हानि होगी, तथा अनेक बार बाधायें आयेगी। नौकरी के क्षेत्र में पदोन्नति मिलेगी, पर विवाद भी बढ़ेगा। मनचाहे वाहन सुख सुविधाओं के साधनों की खरीदी अवश्य होवेगी। पारिवारिक सम्पत्तियां तनाव पैदा करेगी। कुटुम्बियों से लगातार विरोध का सामना करना पड़ेगा। दाम्पत्य जीवन में सुख की कमी तथा तनाव पैदा होगा। तीर्थ यात्रा पर जायेंगे, किन्तु अशुभ समाचार से दु:ख होगा। ऑपरेशन आदि का सामना करना पड़ सकता है। किसी पुराने कार्य से मुक्ति मिलेगी। किसी धोखे से बचे वैवाहिक प्रयासों में सफलता मिलेगी। अदालती मामलों में समाधान होगा। आपके शत्रु आप पर हावी होवेंगे। शिक्षा के क्षेत्र में बाधा प्रेम प्रसंग में अपमानजनक स्थिति बने। संतान की चिन्ता, उधार लेने से बचे, जोखिम के धंधों से लाभ होगा। अनेक नये संबंध बनेंगे। किसी पुरानी उलझी समस्या का निदान होगा। किसी चोट चपेट के शिकार हो सकते है। शुभ फल हेतु शंकर जी की पूजा करें तथा सोमवार का क्रत रखें, तथा मृत्युजय मंत्र का जाप पाठ करायें। 

सिंह राशि- मू, मे, मो, रा, टी, टू, टो, ही, हू, हे
आपकी राशि का स्वामी सूर्य है। आर्थिक एवं व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष एकदम सामान्य फलदायक है। आर्थिक चिन्ता कम लाभ तथा व्यापार बाधाओं के कारण कार्य परिवर्तन का मन बना रहेगा। पारिवारिक सम्पत्ति को लेकर कुटुम्बीजनों में विवाद होगा, जिससे भारी तनाव होगा। खर्च की अधिकता एवं साधनों की खराबी तथा खरीदी के कारण धन का संचय कठिन होगा। अत आप उधार देने से बचे। शासन से कोई नोटिस आदि मिलेगा। जीवन में छुटपुट लाभ के साथ विपरीत तबादलों तथा स्थानातरंण से लाभ होगा। दाम्पत्य जीवन में सुख-दु:ख दोनों साथ आयेंगे। बुजुर्गों के लिए समय कष्टदायी है। विरोधी आपको परेशान करेंगे। छात्रों को परिश्रम से है। सफलता मिलेगी उत्तम समय है। लाभकारी संपर्क बनेंगे। शोक का सामना करना पड़ेगा। संतान की चिन्ता सतायेगी जोखिम के धंधों में धन लाभ होगा। विवादों से हानि होगी। किसी निकट व्यक्ति से धोखे की संभावना है। अतिथि सत्कार में समय बीतेगा। रुका पैसा मिलेगा। मनोरंजन के मौके आयेंगे। किसी कष्ट का सामना करना पड़ेगा। शुभ फल प्राप्त हेतु सूर्य का जाप करें, करायें तथा सूर्य स्त्रोत का पाठ अवश्य करें। रविवार का क्रत रखें तथा माणिकय रत्न पूरती का अवश्य ही धारण करें।

कन्या राशि- टा, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पा
आपकी राशि का स्वामी बुध है। आर्थिक एवं व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष मिश्रित फलदायक है। अच्छे धन लाभ के बाद भी खर्च की अधिकता रहेगी एवं धन हानि भी होगी। समय काल विषय हेतु अनुकूल है। छुटपुट बाधाओं के बावजूद आपके सोचे कार्य पूर्ण हो जायेंगे। घरेलू सुख साधनों पर वाहन खरीदी में खर्च होगा। जोखिम के कार्यों से धन प्राप्त होगा। मांगलिक कार्य की चर्चा होगी। पारिवारि समस्याओं को लेकर हल्का विवाद होगा। कुटुम्बीजनों से अवरोध होगा। सावधानी एवं धैर्य से काम लेवे अन्यथा पुलिस के लफड़े में फंस सकते है। संतान की सफलता में मन प्रसन्न रहेगा। नये संपर्क से कोई विशेष लाभ नहीं होगा। अशुभ समाचार में मन दु:खी होगा। पुरानी किसी उलझी समस्या का निदान होगा। यात्रा कष्टदायक होगी। कड़े परिश्रम से छात्रों को परीक्षा में सफलता मिलेगी तथा आप अपने शत्रुओं से सावधान रहें, तथा संकल्प को लेकर कार्य करते रहें व आगे बढ़े। पन्ना धारण करें, देवी की आराधना करें तथा विशेष काल नवरात्रि में देवी जी का पाठ जाप करायें। 

तुला राशि- रा, री, रु, रे, रो, ता, ती, तु, ते
आपकी राशि का स्वामी शुक्र है। आर्थिक एवं व्यापारिक क्षेत्र में इस वर्ष आपको काफी अच्छा लाभ मिलेगा। व्यापार में अनेक बाधाओं के बीच धन का लाभ होगा। आर्थिक चिन्ताओं के बीच समान खरीदी होगी। कार्य विस्तार का कार्य परिवर्तन के योग बनेंगे। नये कार्य खोलने के योग बनेंगे। जोखिम के धंधों से धन प्राप्त का योग है। रुके कार्य समय पर हो जायेंगे। मित्रगण सहयोग करेंगे, किन्तु तनाव की स्थिति से आप बचकर चले। व्यापार में मन चाहे कार्य होंगे, किन्तु उतार चढ़ाव की स्थिति बनेंगी। मनचाहा तबादला तथा सहयोग की स्थिति बनेगी। किन्तु विभागीय कार्यो का तनाव 
बढ़ेगा, किन्तु पुरानी जांच से मुक्ति मिलेगी तथा सम्पत्ति का लाभ होगा। सेल टैक्स, इनकम टैक्स की जांच होगी। मुकदमें में उलझनों तथा हार की स्थिति बन सकती है। सजकता से केस, मुकदमा लड़े। दामपत्य जीवन कष्टमय रहेगा। चोट चपेट की संभावना बनेगी। समय का ध्यान अवश्य रखे। यात्रा से लाभ, बुजुर्गों के स्वास्थ्य का ध्यान अवश्य रखें। कुटुम्बीजनों से सहयोग मिलेगा। किसी पुराने रोग के उभरने से कष्ट होगा। मानसिक तनाव होगा। खर्च अधिक होने से कर्ज लेने की स्थिति बनेगी। शिक्षा के क्षेत्र में छात्रों को सफलता मिलेगी। चोरों से सावधान, अतिथि आगमन होगा। शुक्रवार का क्रत रखे। जरकिन धारण करें। अधिक कष्ट में महामृत्युजंय का पाठ जाप करायें, शिव जी की आराधना तथा अभिषेक करायें।

वृश्चिक राशि- तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू
आपकी राशि का स्वामी मंगल है। आर्थिक एवं व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष अनेक परेशानियों के साथ-साथ अच्छा फल दे सकता है। व्यापार विस्तार एवं परिवर्तन के अनुकूल है। सोचे हुए कार्य पूर्ण हो जायेंगे। सुख सुविधा के साधन एवं वाहन खरीदी होगी।  किन्तु घर की कमी महसूस होगी। संतान की शिक्षा में धन खर्च होगा। परिश्रम अधिक करने से रुके कार्य पूर्ण हो जायेंगे। पेट विकार व कमर दर्द के कारण शारीरिक कष्ट होगा। नौकरी में उत्तम लाभ एवं विवाद की संभावना किन्तु संपत्ति लाभ होगा। दामपत्य कष्ट मय होगा। संतान की सफलता से खुशी महसूस होगी। यात्राएं कष्टप्रद हो सकती है। आपको शुभ समाचार मिलेंगे तथा आकस्मिक धन लाभ के योग बनेंगे तथा उच्चवर्ग के लोगों से अच्छे संपर्क बनेंगे, जिससे आप अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते है। कुटुम्बीजनों से कभी सुख कभी दु:ख मिलेगा। मानसिक तनाव के बीच आमोद-प्रमोद के भी मौके मिलेगे, परंतु आपके मान सम्मान पर भी आंच आ सकती है। आपके पक्ष में मुकदमें की संभावना है। वैवाहिक प्रयासों में सफलता मिलेगी, पुराने कर्ज का चुकारा होकर मुक्ति मिलेगी। शत्रु आय पर हावी रहेंगे छात्राओं को बाधाओं का सामना करना पड़ेगा। रुका पैसा मिले, मित्रों से तनाव बनेगा। किसी पुरानी उलझी समस्या का निदान होगा। धन हानि व धोखा हो सकता है। शुभ फल हेतु मूंगा धारण करें तथा हनुमान जी की आराधना करें। पाठ जाप करायें।

धनु राशि- ये, यो, भ, भी, भू, धा, फा, ढ़ा,
आपकी राशि का स्वामी गुरु है। आर्थिक एवं व्यापारिक क्षेत्र में यह वर्ष आपका मध्यम फलकारक है। व्यापार में अत्यधिक परिश्रम करना पड़ेगा। मध्यम लाभ के साथ खर्च की अधिकता रहेगी। मानसिक तनाव बढ़ेगा। छुटपुट बाधाओं के बावजूद आपके सोचे कार्य पूर्ण होवेंगे। व्यापार में बदलाव का भी मन बनेगा। शुभ मांगलिक कार्य होवेंगे। उधार दिया गया पैसा डूबने की संभावना बनेगी। नौकरी में मिश्रित फल मिलेगा। विपरीत तबादला एवं तनावों के बीच पदोन्नति हो सकती हे। आपको कोई धोखा देगा। दांपत्य जीवन कष्टमय रहेगा, पेट विकार से परेशान रहेगे। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी। चोट लग सकती है। अशुभ समाचार मिलेगे, जोखिम के धंधों से अप्रत्याशित लाभ होगा। यात्रा से हानि होने की संभावना है। छात्रों को मिली जुली ही सफलता मिलेगी, विवाद होगा। छात्रों का धन खर्च होगा। मित्रों से लाभ कम तनाव ज्यादा प्राप्त होगा। मन चाहे वाहन की खरीदने में धन खर्च होगा। रुका पैसा मिलेगा। संपत्ति में विवाद संभव होगा। कुसंग से हानि होगी तथा आप अपने शत्रुओं पर स्वयं निगाह रखे अन्यथा हानि पहुंचा सकते है। कोई मनोकामना पूर्ण होगी और कर्ज का चुकारा होगा। मुकदमें का फैसला होगा, चोरों से सावधान रहें। अच्छे फल हेतु गुरुवार का क्रत रखे। विष्णु जी की पूजा करें, सत्य नारायण का क्रत रखे, कथा सुनें। विष्णु सहस्त्र नाम का पाठ करायें। 

मकर राशि- भो, जा, जी, खी, खा, खे, खू, गा, गी
आपकी राशि का स्वामी शनि है। आर्थिक व व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष उत्तम फल कारक है। बाधाओं के बाद भी कड़े परिश्रम से अच्छा लाभ फल मिलेगा, किन्तु खर्च की अधिकता के कारण चिन्ता बढ़ेगी। छुटपुट हानि हो सकती है। सोचे कार्य पूर्ण होंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। नौकरी में उत्तम फल मिलेगा। यदा-कदा अधिकारियों से विवाद भी होंगे। स्वास्थ्य नरम रहेगा। दामपत्य जीवन में कभी सुख कभी दु:ख मिलेगा। संतान की सफलता पर मन प्रसन्न होगा। किसी मित्र से धेखा मिलेगा। आप पर कोई लांछन लगा सकता है। अदालती मामलों में उलझाव आयेगा। चोर व चोट से सावधान रहे। मांगलिक कार्य होंगे। उदर विकार से आप परेशान हो सकते है। छात्रों को अच्छी सफलता मिलेगी। शत्रु हावी होने का प्रयास करेंगे। आकस्मिक धन प्राप्त के योग है। पारिवारिक सम्पत्ति में विवाद समस्या का हल होगा, हल मिलेगा। कोई मनोकामना पूर्ण होगी। अतिथि आगमन होगा तथा तीर्थ यात्रा की योजना बन सकती है। आप शनि देव की आराधना करें। शनि मंत्र का जाप करें या करायें, तथा नीलम पांच रत्ती काल में धारण करें। शनि स्त्रोत का पाठ करें।

कुंभ राशि- गू, गे, सो, सा, सी, सू, से, सो, दा
आपकी राशि का स्वामी शनि है। कार्य व्यवसाय की दृष्टि से यह वर्ष उच्च फलकारक है। आपके व्यापार व नौकरी में परिवर्तन के योग बन रहे है। आपके कार्यों में विशेष परेशानी के बावजूद धन का लाभ होगा। रुके कार्य जी-तोड़ मेहनत करने से पूर्ण हो जायेंगे। सुख सुविधा तथा साधनों में और शुभ मांगलिक कार्य में सफलता मिलेगी तथा धन खर्च होगा, रुका पैसा मिलेगा। शासन से हानि की संभावना बनेगी।  मित्रों का सहयोग नहीं मिलेगा किसी को उधार आप न देवें अन्यथा मिलना मुश्किल होगा। दोस्ती यारी से दूर रहे। उच्चाधिकारियों से विवाद की संभावना है। विपरीत दिशा में स्थानान्तर हो सकता है। पदोन्नति काफी संघर्ष से प्राप्त होवेगी। व्यवहार में सुधार करें, मीठी वाणी बोले। उदर विकार कष्ट कारक होगा। टांगों तथा जोड़ों में दर्द होगा। घर के सदस्यों के स्वास्थ्य पर ध्यान देवें तथा संतान की सफलता से खुशी होगी। यात्रा कष्टप्रद होगी। प्रेम प्रसंगों में निराशा हाथ लगेगी। अशुभ समाचार मिलेगी। समय स्थिति पर ध्यान रखें। उलझी समस्या सुलझ जायेगी, तथा अदालती मामलों में समय अनुकूल है। चोट आदि की संभावना है। कोई मनोकामना पूर्ण होगी। शनि देव की आराधना करें। शनिवार का क्रत रखें। नीलम धारण करें 5 रत्ती से अधिक रत्न धारण करें तथा मंत्र का जाप कराये तथा शनि स्त्रोत का पाठ जाप करायें। 

मीन राशि- दी, दू, थ, फ, त्र, द, दो, चा, ची
आपकी राशि का स्वामी गुरु है। आर्थिक व व्यापारिक दृष्टि से यह वर्ष कष्टकारक है। व्यापार मे अच्छा लाभ करायेंगा, तथा व्यवसाय का विस्तार होगा। सारे सोचे कार्य पूर्ण होगे। साधनों की खरीदी होगी। मित्रों का मिलन अत्यंत हानिकारक होगा। समय स्थिति का ध्यान रखें। सम्पत्ति खरीदी में छुटपुट विवादों के बाद लाभ होवेगा। इनकम टैक्स आदि की सूचना मिल सकती है। यह वर्ष भाग्योन्नति में सहायक है। दामपत्य जीवन में सुख दु:ख का अनुभव होगा। आपको संतान पर अधिक खर्च आ सकता है। आपके मान सम्मान पर आंच आ सकती है। धर्म कार्य में रुचि बढ़ेगी। विरोधियों के हौंसले पस्त हो जायेंगे। अप्रिय समाचार में मन में दु:ख होगा। अदालती मामलें अनुकूल होंगे। मनोकामना पूर्ण होगी। संतान के कार्यों में चिन्ता बढ़ेगी। नई यात्रा सुखद होगी। पुराने ऋण से मुक्ति मिलेगी तथा आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। पारिवारिक संपत्तियों का बंटवारा भी हो सकता है। आपको शुभ फल हेतु गुरुदेव के मंत्र का जाप पाठ करायें। गुरुवार को क्रत रखे तथा सत्य नारायण की कथा सुनें तथा पुखराज रत्न पांच रत्ती का पूजा कराकर धारण करें तथा अपने गुरु को बुलाकर गुरु का पूजन करें।