ALL उर्जाधानी देश विदेश राजनीति मध्य प्रदेश/उत्तर प्रदेश मनोरंजन साहित्य लेख
2 से 8 दिसम्बर तक  आगनवाड़ी केन्द्रो में मनाया जायेगा मातृ वंदना सप्ताह
December 2, 2019 • R. K. SRIVASTAVA / NIRAJ PANDEY • उर्जाधानी


उतकृष्ट कार्य करने वालो  को दिया जायेगा पुरस्कार
काल चिंतन संवाददाता,
वैढ़न,सिंगरौली।  भारत सरकार महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना चलाया जा रहा है। इस योजना के तहत देश में मध्यप्रदेश प्रथम स्थान पर है। एवं सिंगरौली प्रदेश में 6 वे स्थान पर है। मध्यप्रदेश शासन महिला एवं बाल विकास विभाग के निर्देशानुसार मातृ वंदना संप्ताह 2 दिसम्बर से 8 दिसम्बर तक जिले के समस्त आगनवाड़ी केन्द्र में आयोजित किया जायेगा।      जिसके कुशल क्रियान्वन हेतु कलेक्टर श्री केवीएस चौधरी के अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक आयोजित हुई। बैठक में कलेक्टर के द्वारा संबंधित विभाग के अधिकारियो एवं कार्यकर्ताओं को को निर्देश दिया गया कि मातृत्व वंदना संप्ताह के दौरान छूटे हुयें हितग्राहियो का पंजीयन तत्काल करे। तथा कोई भी पात्र हितग्राही इस योजना के लाभ से वंचित न रहे। इस योजना के तहत जो अभी द्वितीय एवं तृतीय किस्त के लंबित प्रकरण है इस संप्ताह में शत प्रतिशत भुगतान पूर्ण किया जाना समस्त परियोजना अधिकारी सुनिश्चित करे। कलेक्टर ने यह भी निर्देश दिया कि इस अभियान में किसी भी प्रकार की लापरवाही क्षम्य नही होगी। मेरे भ्रमण या जनसुनवाई के दौरान ऐस आवेदन पत्र प्राप्त न हो कि मुझे प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना का लाभ नही मिला है। न ही मेरा पंजीयन किया गया है। उन्होने ने यह भी कहा कि इस अभियान में उतकृष्ट कार्य करने वाले परियोजना अधिकारी, परिवेक्षक, एएनएम तथा आगनवाड़ी कार्यकर्ताओ को पुरस्कृत किया जायेगा। बैठक के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋतराज के द्वारा भी यह निर्देष दिया गया कि गर्भवती महिला जो इस योजना के अंतर्गत पात्र होती है उन्हे तीन किस्तो में 5 हजार रूपयें कि राशि दी जाती है जिसमे प्रथम किस्त में 1 हजार रूपयें तथा पंजीकरण होते ही द्वितीय किस्त दो हजार रूपयें एवं एनएससी जांच उपरान्त तृतीय किस्त बच्चे के जन्म वार चार टीकाकरण पूर्ण होने पर 2 हजार रूपयें की राशि दी जाती है।  हितग्रहियो को समय पर भुगतान किया जाये।बैठक के दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास प्रवेश मिश्रा सहित परियोजना अधिकारी, परिवेक्षक आदि उपस्थित रहे।